महज 2 किलोमीटर पहले टूटा चंद्रयान 2 का इसरो से संपर्क, बस दो चरण थे बाकी

भारत का मून मिशन चंद्रयान 2 महज 2 किलोमीटर की दूरी पर आकर खो गया, इससे पहले सब कुछ ठीक चल रहा था मगर चांद की सतह से 2.1 किलोमीटर पहले ही इसरों के वैज्ञानिकों का संपर्क लैंडर विक्रम से टूट गया। इसके बाद इसरो के कंट्रोल रूम में अचानक सन्नाटा पसर गया। दरअसल इसरो का संपर्क लैंडर विक्रम से तीसरे चरण के दौरान टूटा गया। बता दे कि तीसरे चरण में चंद्रयान-2 को पांच किमी से नीचे उतरना था। जिसके उतरने के लिए 89 सेकंड समय लगना था, मगर इस दौरान अचानक इसरो का संपर्क लैंडर विक्रम से टूट गया। इसके बाद क्या इसकी कोई जानकारी नहीं मिली।

जानकारी के मुताबिक इसरो के चेयरमैन के. सिवन ने पहले ही आखरी के 15 मिनट को दहशत के पल बताया बताया था। उन्होंने कहा था कि लैंडिंग के दौरान आखिरी के 15 मिनट ऑफ टैरर होंगे। क्योंकि इस दौरान लैंडर विक्रम को एक के बाद एक 4 चरणों से गुजरना था। चंद्रयान पहले चरण में 10 मिनट में 2 30 किमी से 7.4 किमी पर आया। वहीं दूसरे चरण में 38 सेकंड में चंद्रयान 2 7.5 किमी से आगे बढ़कर पांच किमी तक उतरा। इस दौरान विक्रम के चार इंजन चालू किए गए। जिससे उसकी गति 550 किमी से घटाकर 330 किमी प्रति घंटा की गई।

इसके बाद अचानक से इसरो का संपर्क यान से टूट गया और उसके पास कंट्रोल नहीं रहा। लैंडर विक्रम से इसरो का संपर्क तीसरे चरण के दौरान टूटा। आपकों बता दे कि तीसरे चरण में चंद्रयान-2 को 89 सेकंड में पांच किमी से नीचे उतरना था मगर किसी कारण से इसरो का संपर्क टूट गया और इसके बाद कोई जानकारी नहीं मिली। इसके बाद इसरो के कंट्रोल रूम में अचानक सन्नाटा पसर गया। इसरों के सभी वैज्ञानिकों ने इस मिशन के लिए बहुत मेहनत के साथ काम किया था। मगर अचानक यान से इसरो का संपर्क टूट गया जिससे सबके चेहरे पर मायूसी नजर आई। हर भारतीय को इस मिशन से बड़ी उम्मीद थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *